June 18, 2024

हिन्दी

हिन्दी

भोजन के पहले की विनती

भोजन के पहले की विनती पिता और पुत्र और पवित्र आत्मा के नाम पर, आमीन। हे प्रभु हम लोगों को और अपने इन सब दानों को, जो हम तेरी भलाई से लेने पर हैं, आशीष दे।  हमारे प्रभु मसीह के द्वारा।  आमीन।

भरोसे की विनती

हे मेरे ईश्वर, तू हमारे लिए असीम भला है, तू सर्वशक्तिमान है, तू अपनी प्रतिज्ञाओं को पूरा करता है। इसलिए मैं दृढ़ भरोसा रखता हूँ, कि यीशु मसीह के पुण्यफलों के कारण, मैं इस जीवन में अपने पापों की क्षमा, तेरी सेवा अच्छी तरह से करने की कृपा, और दूसरे जीवन में अनन्त सुख पाऊँगा।… Continue reading भरोसे की विनती

भयभीत व्यक्ति की प्रार्थना

हे प्रभु, आप सर्वव्यापी पिता हैं। आपके पुत्र, प्रभु यीशु मसीह ने एम्मानुएल बन कर हमारे बीच निवास किया। उन्होंने हमें आश्वास्न दिया है कि वे संसार के अन्त तक हमारे साथ रहेंगे। मैं विश्वास करता हूँ कि आप मेरे साथ है। आप वास्तव मैं मुझसे भी ज्यादा मेरे करीब हैं। मेरे हृदय से हर… Continue reading भयभीत व्यक्ति की प्रार्थना

बीमारी के समय प्रार्थना

हे ईश्वर, हमें तू इसलिए दुख-तकलीफ़ में पड़ने देता है कि हमें तेरे विषय सोचने को अधिक समय मिले; कि सांसारिक सुख-विलास से हमारा मन दूर रहे; कि अपने तथा अन्यों के पापों के लिए क्षमा माँग सकें और इन पापों के प्रायश्चित स्वरूप तुझे कुछ बलिदान चढा सकें। मुझे यह कृपा दे कि इस… Continue reading बीमारी के समय प्रार्थना

प्रेरितों का धर्मसार

प्रेरितों का धर्मसार स्वर्ग और पृथ्वी के सृजनहार सर्वशक्तिमान पिता परमेश्वर पर मैं विश्वास करता हूँ, और उसके एकलौते पुत्र हमारे प्रभु यीशु मसीह पर जो पवित्र आत्मा के द्वारा गर्भ में आए, कुवारी मरियम से जन्मे। क्रूस पर ठोंके गए, मर गए और दफनाए गए । लिम्बुस में उतरे, तीसरे दिन मृतकों में से… Continue reading प्रेरितों का धर्मसार

प्रेम की विनती

हे मेरे ईश्वर, मैं तुझको सारे दिल और मन से, और सब कुछ से अधिक प्यार करता हूँ। इसलिए कि तू असीम भला और दयालु है। और मैं अपने पड़ोसियों को तेरे प्रेम के लिए अपने समान प्यार करता हूँ इस प्रेम में मैं जीना और मरना चाहता हूँ। आमीन।  

प्रणाम मारिया

प्रणाम मारिया, कृपापूर्ण, प्रभु तेरे साथ है, धन्य तू स्त्रियों में, और धन्य तेरे गर्भ का फल यीशु। हे सन्त मरियम, परमेश्वर की माँ, प्रार्थना कर हम पापियों के लिए, अब और हमारे मरने के समय। आमीन। 

प्रज्ञा के लिए विनती

सुलेमान ने प्रार्थना की और उन्हें प्रज्ञा मिली। वे राजदण्ड, सिंहासन, धन-दौलत, अमूल्य रत्न, सोना, चाँदी, स्वास्थ्य तथा सौदर्य से अधिक प्रज्ञा चाहते थे। उन्होंने तुझ से प्राप्त प्रज्ञा को अपनी ज्योति बनाने का निर्णय लिया। आज मैं तुझ से प्रार्थना करता हूँ कि मुझे अपनी प्रज्ञा प्रदान कर ताकि मैं तेरे वरदानों का मूल्य… Continue reading प्रज्ञा के लिए विनती

प्रज्ञा के लिए प्रार्थना

हे प्रज्ञा के प्रभु ईश्वर, तूने राजा सुलेमान को अपनी प्रज्ञा से भर दिया कि वे हर कार्य में तेरी इच्छा जान कर तेरी विशाल प्रजा का शासन कर सकें। तूने नबी दानिएल को अपना ज्ञान प्रदान किया कि वे न्यायाधीशों का भी न्याय कर सकें। मेरी विनम्र प्रार्थना है, तू मुझे अपनी प्रज्ञा प्रदान… Continue reading प्रज्ञा के लिए प्रार्थना

पुरोहितों के लिए प्रार्थना

हे भले यीशु, हमारे शाश्वत पुरोहित, अंतिम दिन तक तेरी उपस्थिति इस संसार में बनाये रखने, विश्व के सभी राष्ट्रों तथा जातियों के बीच, तेरे मुक्ति–कार्य को पूरा करने के लिए, तूने हममें से कुछ लोगों को, तेरी दिव्य पुरोहिताई के लिए चुन लिया है। तेरी इस असीम दयालुता एवं प्रज्ञा के लिए हम तुझे… Continue reading पुरोहितों के लिए प्रार्थना