May 20, 2024

हिन्दी

हिन्दी

हमारी प्रार्थना

हमारी प्रार्थना

हे परम पवित्र, सर्वश्क्तिमान और अमर ईश्वर, हम तुझे सारी आत्मा से, सारे हृदय से, सारे मन से तथा सारी शक्ति से प्यार करते हैं। हम तेरी आराधना और स्तुति करते हैं। हे सृष्टिकर्ता प्रभु, तूने हमारे प्रति प्यार से प्रेरित होकर अपने पवित्र वचन से इस जगत की सृष्टि की। यह विस्तृत जगत तेरी महानता का बखान करता है। तूने मनुष्य को अपना प्रतिरूप बनाया और उन्हें सभी जीवजन्तुओं पर अधिकार दिया (उत्पत्ति 1:26) ताकि ’’वह औचित्य और न्याय से संसार का शासन करे’’ (प्रज्ञा 9:3)। जब मनुष्य ने पाप किया उसके उध्दार के लिए तूने अपने असीम प्रेम का प्रमाण दे कर अपने पुत्र प्रभु यीशु मसीह को इस दुनिया में भेजा। उन्होंने क्रूस पर अपनी भुजाएं पसार कर अपने प्राण दे कर हमें नरक-दण्ड से बचाया।

सारे विश्व पर, तारा मण्डल तथा प्रकृति पर तेरी आशीष बनी रहें। हमें अच्छे मौसम तथा अच्छी फसल से अनुग्रहित कर। प्राकृतिक आपदाओं तथा दुर्घटनाओं से हमें बचा। तेरा पवित्र आत्मा सारी सृष्टि पर विचरता रहे और उसे संभालें। हम सारी मानव जाति को तुझे सुपुर्द करते हैं। सब मानव तेरी दया तथा प्रबन्ध का निरंतर अनुभव करते रहें। हे शान्ति के प्रभु, हम लोगों को हर समय और हर प्रकार शान्ति प्रदान कर (2 थेसलनीकियो 3:16)!

सभी देशों तथा वंशों के लोग विनम्रता से तेरे प्रभुत्व तथा आधिपत्य को स्वीकार करें। हम सारी कलीसिया को तेरे समक्ष समर्पित करते हैं। सभी शासक, नबी, शिक्षक तथा न्यायकर्ता सब चीज़ों से बढ़ कर तुझे प्यार करें ताकि वे तेरे रेवड को तेरी इच्छा के अनुसार मार्गदर्शन दे सकें। उन्हें अपनी प्रज्ञा तथा विवेक प्रदान कर ताकि वे न्याय से प्रेम करें तथा ईमानदारी से तेरी प्रजा का नेतृत्व कर सकें (2 इतिहास 1:10)। हमारे न्यायाधीशों को छल-कपट तथा मूर्खतापूर्ण विचारों से बचा ताकि वे तेरी प्रज्ञा के अनुकूल कार्य कर नबी दानिएल के समान सभी लोगों को न्याय दिला सकें (प्रज्ञा 1:4-5)

सभी साहित्यकारों को अपनी प्रज्ञा से भर दें, सभी कलाकारों को तेरी सृष्टि के निगूठ रहस्यों को समझ कर उन्हें प्रस्तुत करने की कृपा दें, सभी डाक्टरों तथा नर्सों को निस्वार्थ भाव से रोगियों की सेवा करने की इच्छा प्रदान कर, सभी शिक्षकों को सत्य की शिक्षा प्रदान करने के सक्षम बना दे।

सभी माता-पिताओं को यह कृपा दे कि वे सृष्टि तथा संरक्षण के तेरे कार्यों में सहभागी बनने की अपनी बुलाहट को भली भाँति समझें तथा ईश्वर की इच्छा के अनुसार अपने बच्चों की देख-रेख करें। सभी पति-पत्नियों को यह आशिष दे कि वे प्रभु यीशु तथा क्लीसिया के प्यार को इस दुनिया के सामने प्रस्तुत कर सकें। सभी युवकों को तेरे पवित्र वचन का संरक्षण प्रदान कर ताकि वे अपने जीवन को हमेशा निर्दाेष रख सकें (स्तोत्र 119:8-11)। सभी बच्चों को यह कृपा दे कि वे ईश्वरीय तथा पडोसी प्रेम में अग्रसर होते रहें। सभी विध्यार्थियों के लिए तेरे ज्ञान का भण्डार खोल दे।

हे पीडितों का रुदन सुनने वाले करुणासागर प्रभु, गरीबों को संरक्षण, बन्दियों को मुक्ति, रोगियों को चंगाई, दुखियों को दिलासा प्रदान कर। तुझे ढ़ूढने वाला कोई भी व्यक्ति निराश न हो, तुझ से विनती करने वालों के विश्वास को बढ़ा, तुझ में लीन रहने वालों को आनन्द प्रदान कर, तुझ पर भरोसा रखने वालों को अपनी छत्रछाया में सुरक्षित रख।

हे प्रभु ईश्वर हमें यह कृपा दे कि हम इस दुनिया में तेरे राज्य की स्थापना करने के लिए प्रयत्न करते रहें। तेरी फ़सल लुनने के लिए अनेक मज़दूरों को भेज ताकि सभी लोग तुझे जानें और मानें। हर घुटना तेरे समक्ष झुके, हर व्यक्ति एक दिन तेरा दर्शन कर पाये। तू अपना हाथ बढ़ा कर प्रभु यीशु के पावनतम नाम पर स्वास्थ्यलाभ, चिन्ह तथा चमत्कार प्रकट होने दे (प्रेरित-चरित 4:30)। सारा मानव समुदाय सुख-शांति में जीवन बिता सकें। हमारे प्रभु मसीह के द्वारा। आमीन।

Facebook
Twitter
LinkedIn

RELATED ARTICLES

No posts found!